(PMMSY) प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना 2022 | ऑनलाइन, आवेदन फार्म, PM Matsya Sampada Yojana

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना क्या है ?

भारत सरकार ने देश के किसानों की आय को बढाने के लिए खासकर ग्रामीण क्षेत्रों के लिए रोजगार के नए अवसर पैदा करने के लिए भारत सरकार ने कई तरह की योजनाएं चलाई हैं |

इसी के मद्देनजर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 10 सितंबर 2020 को डिजिटल माध्यम से प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना (Pradhanmantri matsya sampada yojana-PMMSY) की शुरुआत की | इस योजना में मत्स्य पालन को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार आम लोगों को 40% अनुदान दे रही है |

वही समाज के वंचित समुदाय जैसे अनुसूचित जाति और महिलाओं के लिए 60% अनुदान दिया जा रहा है | इसके लिए सरकार की ओर से प्रति हेक्टेयर 7 लाख तक की धनराशि निर्धारित की गई है |

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना का उद्देश्य :

मुख्य रूप से किसानों की आय में बढ़ोतरी करना एवं नए रोजगार सृजन करना साथ ही समुद्री शैवाल और सजावटी मछली की खेती पर विशेष ध्यान देना ताकि नीली क्रांति योजना की उपलब्धियों को और सशक्त बनाने के लिए इस पर विशेष ध्यान दिया गया।

जिसमें मछली पालन के तहत मछली पकड़ने के जहाजों का बीमा, बायो टॉयलेट, लवण एवं क्षारीय क्षेत्रों में जलीय कृषि मत्स्य पालन एक्टिविटी प्रयोगशालाओं के नेटवर्क और उनकी सुविधाओं का विस्तार, मछली की उत्पादकता प़ौघोगिकी गुणवत्त, अवसंरचना एवं प्रबंधन आधुनिकरण को मजबूत बनाना शामिल है।

इसके लिए मत्स्य पालन करने वाले लोगों को जिले स्तर पर विभाग के द्वारा निशुल्क प्रशिक्षण भी दिया जाता है।

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना का लक्ष्य :

  • प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना का लक्ष्य है किसानों की आय में वृद्धि करना |
  • इसके लिए सरकार ने मछली पालन के साथ-साथ पशुपालन ,मधुमक्खी पालन जैसी चीजों को भी शामिल किया है |
  • केंद्र सरकार का लक्ष्य है साल 2024-25 तक 220 लाख मीट्रिक टन उत्पादन का लक्ष्य पूरा किया जाए।
  • साल 2019 में भारत करीब 137.58 लाख मैट्रिक टन मछली का उत्पादन कर रहा था |
  • अब सरकार 2024-25 तक इससे बढ़ाकर 220 लाख मैट्रिक टन करना चाहती है |
  • साथ ही प्रति हेक्टेयर मछली उत्पादन को 3 टन से बढ़ाकर 5 टन करने का लक्ष्य रखा गया है ।
  • इसके लिए केंद्र सरकार ने मछुआरो, मछली पालन करने वाले किसान, मछली विक्रेताओं को अत्याधिक लाभ पहुंचाने के लिए प्रधानमंत्री जी ने इस योजना में ₹20050 करोड़ का निवेश किया है |
  • मछली पालन करके इसके निर्यात से भारत सरकार इस समय 46,579 करोड रुपए सालाना कमाती है |
  •  साल 2024-25 तक केंद्र सरकार ने मछली निर्यात से 1,00,000 करोड रुपए कमाने का लक्ष्य रखा है।

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना का लाभ कौन कौन उठा सकता है ?

  • प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना खासकर उन किसानों के लिए है जो अपनी आय में वृद्धि करना चाहते हैं |
  • इसके लिए सरकार अनुदान भी देती है | साधारण किसानों को इस योजना के तहत 40% अनुदान राशि दी जाती है |
  • महिलाओं और अनुसूचित जाति के लिए 60% अनुदान राशि दी जा रही है।

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना कैसे करें अप्लाई ?

  • प्रधान मंत्री मत्स्य संपदा योजना के लिए अप्लाई करने का बहुत ही आसान तरीका है |
  • केंद्र सरकार की अनुशंसा पर राज्य सरकार इस योजना को आम जनता तक पहुंचा रही है |
  • इस योजना के लाभ के लिए कोई भी इच्छुक व्यक्ति अपनी राज्य सरकार की मत्स्य पालन विभाग की वेबसाइट पर अप्लाई कर सकता हैं |
  • इच्छुक व्यक्ति केंद्र सरकार की आधिकारिक वेबसाइट मत्स्य पालन विभाग www.pmmsy.dof.gov.in पर विजिट करके अप्लाई कर सकता है |

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना के अंतर्गत अन्य योजनाएं :

केंद्र सरकार ने मत्स्य पालन योजना के साथ-साथ ई-गोपाला ऐप भी लॉन्च किया है | जो किसानों तक प्रत्यक्ष उपयोग के लिए एक सूचना पोर्टल है | इसके तहत किसानों को हर प्रकार की जानकारी मिलती रहेगी जैसे :

  •  देश में पशुधन के सभी रूपों मे प्रजनन संबंधी ( वीर्य भ्रूण इत्यादि) रोग मुक्त जीवाणु को इस्तेमाल में लाने के लिए खरीदना बेचना है इत्यादि।
  •  किसानों को क्षेत्र में सरकार द्वारा चलाई गई विभिन्न सरकारी योजनाओं और अभियानों के बारे में किसानों तक सही जानकारी पहुंचाना।
  •  उचित आयुर्वेदिक दवा की जानकारी ताकि पशुओं के ऊपर उपयोग किया जाने वाली दवाई के बारे में समुचित जानकारी मिलती रहे |
  •  गुणवत्तापूर्ण अच्छी प्रजनन सेवाओं की उपलब्धता की जानकारी देना (कृत्रिम गर्भाधान, पशु उपचार, पशुओं के टीकाकरण इत्यादि )
    उनकी समुचित जानकारी किसानों तक पहुंचाने के लिए इस ऐप को लांच किया गया है |

पट्टे वाले तालाब पर कहां से लोन मिलेगा ?

मत्स्य पालन के लिए यदि किसी व्यक्ति ने तलाब पट्टे पर लिया है और उसके लिए लोन चाहिए तो उसे 1 हेक्टेयर के तालाब पर 2 लाख तक का लोन मिल सकेगा |

लोन के आवेदन के लिए पट्टा धारक को एक आवेदन पत्र जिला मत्स्य पालन विभाग के कार्यालय में को भेजना होगा | साथ ही पट्टे वाली रसीद की फोटो कॉपी तथा आधार कार्ड की फोटो कॉपी लगानी होगी |

इसके बाद मत्स्य पालन विभाग के अधिकारी आवेदन पत्र को बैंक के पास भेज देगा फिर पट्टा धारक को बैंक से लोन मिलेगा |

मत्स्य पालन की शिक्षा के लिए सरकार दे रही है सर्टिफिकेट :

देशभर में मत्स्य पालन को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार तथा राज्य सरकार द्वारा अनेक प्रकार की सुविधाओं के साथ-साथ शिक्षा पर भी जोर दिया जा रहा है ताकि किसानों को मत्स्य पालन में किसी प्रकार की कोई समस्या ना रहे |

इसके लिए सरकार द्वारा मत्स्य पालन से संबंधित शिक्षा प्रदान करने के लिए महाविद्यालयों में प्रमाणपत्र पाठ्यक्रम की शुरुआत करने पर तेजी से विचार किया जा रहा है।

और पढ़े :

Leave a Comment