राष्ट्रीय गोकुल मिशन 2022 | एप्लीकेशन फॉर्म, लाभ, पात्रता व पंजीकरण प्रक्रिया, PM Rashtriya Gokul Mission Yojana

राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना क्या है ?

राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना केंद्र सरकार द्वारा शुरू किया गया एक ऐसी योजना है जिसके तहत देश के किसानों की आय को बढ़ाने के उद्देश्य से विभिन्न प्रकार से चलाया जा रहा है |

यह योजना मुख्य रूप से देश के किसानों के लिए है आप सभी जानते हैं देश के किसान कृषि के अलावा पशु भी पालते हैं अपनी आमदनी को बढ़ाने के लिए |

किसानों के जीवन स्तर को बेहतर बनाने के लिए इस योजना की शुरुआत की गई |इसकी शुरुआत वर्ष 2019 में केंद्र सरकार के द्वारा किया गया |

राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना के अंतर्गत मुख्य रूप से स्वदेशी नस्लों को बढ़ावा देना तथा विदेशी नस्लों के पशुओं के सरंक्षण के साथ-साथ दूध के उत्पादन बढ़ाने पर भी जोर शोर से कार्य कर रही है |

इसके साथ ही हमारे देश में बहुत सारे ऐसे किसान हैं जो विदेशी नस्ल के पशुओं को तो पालते हैं अधिक दूध के लिए परंतु वातावरण जलवायु परिवर्तन से सामंजस्य ना बिठा पाने के कारण उनकी पशुओं की असमय मृत्यु हो जाती है जिससे किसानों को भारी नुकसान होता है।

राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना के उद्देश्य :

भारत सरकार द्वारा चलाई जा रही राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना का मुख्य उद्देश्य है स्वदेशी गौवंशीय पशुओं की नस्ल में सुधार करना तथा दूध उत्पादन की क्षमता को बढ़ाना | इसके अलावा भी इस योजना के कई उद्देश्य है जो नीचे क्रमबद्ध है |

  •  इस योजना के अंतर्गत स्वदेशी दुधारू पशुओं के नस्लों के विकास को बढ़ाना तथा वैज्ञानिक और समग्र तरीके से सरंक्षण को बढ़ावा जिससे की पशु उत्पाद को को आर्थिक लाभ मिल सके।
  •  इस योजना के माध्यम से उच्च कोटि की स्वदेशी नस्लो वाली पशुओं में विकास लाना जैसे लाल सिंधी और साहिबान जैसे पशुओं में।
  •  इस योजना के तहत प्राकृतिक सेवा के लिए उच्च अनुवांशिक योग्यता वाले सांडों का वितरण करना तथा देशी नस्लो के लिए उच्च कोटि अनुवांशिकता वाले सांडो के प्रजनन का विस्तार हो सकेगा।
  •  इस योजना के तहत दूध के उत्पादन और उत्पादकता में तेजी से वृद्धि लाना और प्रजनन नेटवर्क को मजबूत करना।
राष्ट्रीय गोकुल मिशन

राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना के लाभ :

इस योजना के तहत ऐसे कई लाभ है जिससे आम इंसान किसान के साथ-साथ बाकी को भी लाभ होगा।

  •  इस योजना के तहत पशु पालन करने वाले किसानों के घर पर ही गुणवत्तापूर्ण कुत्री गर्भाधान सेवाओं की व्यवस्था सरकार द्वारा की जा रही है।
  •  इस योजना के अंतर्गत खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में समन्वित पशु केंद्र का निर्माण किया जाएगा और इन पशु केंद्र को गोकुल ग्राम के नाम से जाना जाएगा।
  •  इस गोकुल ग्राम के तहत लगभग 1000 से अधिक पशुओं को व्यवस्थित रखने की व्यवस्था बनाई जाएगी।
  •  इसके साथ-साथ प्रत्येक गोकुल ग्राम में कम से कम पशु चिकित्सालय और कृत्रिम गर्भाधान सेंटर भी बनाया जाएगा।
  •  इस योजना के तहत जिनोमिक्स का प्रयोग करके कम उम्र के उच्च कोटि के अनुवांशिक योगिता वाले प्रजनन बैलों का चयन भी किया जाएगा।
  •  इस योजना के तहत रोगमुक्त अनुवांशिक गुणवाली माता आबादी को बढ़ाया जाएगा।

राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना की पात्रता :

यदि कोई व्यक्ति प्रधानमंत्री राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना के तहत लाभ लेना चाहते हैं तो उन्हें नीचे दिए गए पात्रता के अनुरूप आवेदन करना होगा।

  • आवेदन करने वाला आवेदक भारत का मूल निवासी हो तभी इस योजना का लाभ ले पाएगा।
  •  आवेदन करने वाले आवेदक की उम्र कम से कम 18 वर्ष से अधिक हो।
  •  आवेदन करने वाला व्यक्ति यदि सरकारी कर्मचारी है या सरकारी पेंशन प्राप्त कर रहा है तो उन्हें इस योजना के लिए पात्र नहीं माना जाएगा।
  •  इस योजना में वही व्यक्ति आवेदन कर पाएगा जो छोटे किसान या पशुपालक है।

राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना के लिए आवेदक दस्तावेज :

इस योजना के तहत आवेदन करके लाभ प्राप्त करने के लिए आपके पास निम्न लिखित दस्तावेजों का होना जरूरी है।

  • आपका आधार कार्ड
  • आपका स्थाई निवास प्रमाण पत्र
  • आपका आय( इनकम) प्रमाण पत्र
  • आपका रजिस्टर्ड एक मोबाइल नंबर
  • आपका एक पासपोर्ट साइज फोटो

राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना के लिए आवेदन कैसे करें :

सबसे पहले इस योजना का लाभ लेने के लिए यदि आप आवेदन करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको आधिकारिक वेबसाइट पशुपालन और डेयरी विभाग पर जाकर

  • आपको योजना के लिंक की खोज करके आवेदन फॉर्म डाउनलोड करना होगा।
  • उसके बाद इसका प्रिंट आउट निकाल कर फॉर्म मैं मांगी गई सभी जानकारी को भरना होगा साथ ही जरूरी दस्तावेज भी अटैच करना होगा।
  • उसके बाद संबंधित कार्यालय में जाकर आप आसानी से इस फॉर्म को जमा करा दें।
  •  इस प्रकार आप आवेदन सफलना पूर्वक सफल हो जाएगा।

राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना के लिए सरकार द्वारा दी गई वित्तीय सहायता र राशि :

भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना की शुरुआत 2500 करोड़ रुपए से की गई थी और साल 2020 तक 1842.76 करोड़ रुपए की राशि व्यय की चुकी है।

मिली जानकारी के अनुसार इस योजना का 1842.76 करोड़ रुपए साल 2014 से लेकर दिसंबर 2020 तक खर्च किया जा चुका है।

और पढ़े :

Leave a Comment