स्मार्ट सिटीज मिशन | Smart Cities Mission 2022

स्मार्ट सिटीज मिशन (Smart Cities Mission) क्या है ?

स्मार्ट सिटीज मिशन (Smart Cities Mission) योजना को भारत सरकार ने 25 जून 2015 को शुरू किया | प्रधानमंत्री मोदी ने विमोचन करते हुए कहा स्मार्ट सिटी का कार्य दो चरणों में होगा ।

इसका पहला चरण होगा नयी स्मार्ट सिटी का — निर्माण तथा दूसरा चरण में पुरानी सिटी का नवीनीकरण किया जाएगा |

इस स्मार्ट सिटीज योजना के तहत भारत के 100 शहरों को स्मार्ट बनाने का लक्ष्य रखा गया । स्मार्ट सिटी मिशन के तहत ऐसे शहरों को बढ़ावा — देना है जो कई शहरों को जोड़ता हो जिस शहर की आबादी कम से कम 1 लाख से अधिक हो जिससे की एक स्मार्ट सिटी अपने नजदीकी शहर को विकाश करने में सहयोग करें ।

इसके अन्तर्गत वही शहर आएंगे जिसमें बिजली की व्यवस्था , पानी की व्यवस्था , ट्रांसपोर्ट की व्यवस्था तथा म्यूनिसिपल कॉसपोरेशन के साथ -साथ आईटी इस्तेमाल शहर हो ।

स्मार्ट सिटीज मिशन (Smart Cities Mission) का उद्देश्य :

ऐसा शहर का निर्माण करना जहाँ सारी सुविधाएँ मौजूद हों भारत की वर्तमान आबादी का लगभग 3/4 % शहरों में रहता है । ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि वर्ष 2030 तक भारत की आबादी लगभग 40 % शहरों में रहने लगेगें ।


इसके साथ ही भारत के सकल घरेलू उत्पाद में भी काफी बढ़ोतरी होगी । इसके लिए भौतिक संस्थागत , आर्थिक तथा सामाजिक बुनियादी ढाँचे के व्यापक विकास की जरूरत पड़ेगी। ये सभी सुविधायें जीवन की गुणवत्ता में सुधार लाकर लोगों के जीवन में विकास एवं प्रगति के नए आयाम की ओर अग्रसित होना है ।

smart cities mission

स्मार्ट सिटी मिशन (Smart Cities Mission) के मापदंड क्या है ?

  • स्मार्ट सिटी के अन्तर्गत आने वाले शहर मे कुछ मूलभूत सुविधाएं होने चाहिए :
  • सड़को का बनावट , चौड़ीकरण , साफ – सफाई तथा फुटपाथ वाहन पाथ उचित रूप से बनाये जायें ताकि आने जाने में कोई परेशानी नहीं हो ।
  • शहर में लगभग 24 घंटे बिजली , पानी की सुविधा मौजूद हो ।
  • शहर में शिक्षा की उचित व्यवस्था अच्छे स्कूल , कॉलेज होने चाहिए ताकि वहाँ के बच्चें को पढ़ाई करने के लिए ज्यादा दिक्कत का सामना ना करना पड़े ।
  • शहर में नागरिकों की सुरक्षा की दृष्टि से एक स्मार्ट पुलिस स्टेशन तथा अलग- अलग मोहल्ले के लिए थाने या चौकी का भी व्यवस्था होनी चाहिए ताकि वहां के व्यक्ति को किसी भी प्रकार की शिकायत करने के लिए दूर ना जाना पड़े एव पुलिस की निगरानी पूरी तरह बनी रहें इससे क्राइम भी बहुत कम होगी और नागरिक भी अपने आप को सुरक्षित महसूस करेगे ।
  • ( e ) शहर में स्वास्थ्य व्यवस्था भी अच्छी होनी चाहिए सरकारी एवं निजी हॉस्पीटल 24 घंटे की सुविधा दे रहे हों तथा हॉस्पीटल की साफ – सफाई यानि स्वच्छता होनी चाहिए साथ ही साथ कूड़े कचरे के लिए उचित व्यवस्था होनी चाहिए जिससे बीमारी से बचा जा सके क्योंकि कूड़ा बिमारी का एक सबसे बड़ा माध्यम है इसी से ज्यादा तर बिमारियां उत्पन्न होती है । जिससे की सांस लेने में तकलीप शुद्ध हवा ना मिलना हैजा , मलेरिया इत्यादि बिमारी इसीलिए जरूरी है शहर मे हरियाली भी हो जिससे प्रदूषण पर कंट्रोल पाया जा सके ।
  • शहर को स्मार्ट बनाने के लिए जरूरी है । टैक्नोलॉजी की सुविधा होनी चाहिए इसीलिए पूरे शहर वाईफाई सिग्नल होना अनिवार्य है ताकि देश दुनियां से जुड़ा खबर आसानी तक जनता तक पहुँच सकें ।

स्मार्ट सिटी मिशन (Smart Cities Mission) के लिए आवंटित राशि:

स्मार्ट सिटी एक अदभूत बड़े पैमाने को दर्शाती है कि किस तरह हर नागरिक को अच्छे सीटी से जोड़कर उनतक हर सुविधा पहुंचाई जा सके इसके लिए केन्द्र सरकार द्वारा 48 हजार करोड़ बजट रखा गया है।

इसका निर्माण  दो चरण में किया जाएगा पहले चरण में राज्य और केन्द्र शासित – प्रदेशों को संभावित स्मार्ट सिटी को – चुना जाएगा जिसमें ये देखा जाएगा कि कौन से शहर में कितने सुविधाएं मौजूद हैं और वहां कि आबादी कितनी है ।

इन सारी चीजों को देखते हुए पहले चरण से दूसरे चरण के लिए भेजा जाएगा उसके बाद इसके दूसरे चरण में भारत सरकार के शहरी विकास मंत्रालय शहरों का चयन करता है । उसके बाद 100 शहरों का चयन किया जाएगा। और जानकारी के लिए आप आधिकारिक वेबसाइट पे जा सकते है |

स्मार्ट सिटी मिशन (Smart Cities Mission) से क्या लाभ होगा ?

स्मार्ट सिटी बनने से विकाश की गति में बढ़ोतरी होगी हमारे देश में आज भी ऐसे कई हजार गाँव हैं जहां विकाश कुछ भी नहीं हुआ है वहां की नागरिक आज भी विकाश की मुख्य धारा से बहुत पीछे है ।

उन सभी छोटे- छोटे गाँव तक विकाश पहुँच सकें वहां के नागरिकों को , शिक्षा , स्वास्थ्य , बिजली , पानी , सड़क पहुंचाने के लिए स्मार्ट सिटी का निर्माण किया जा रहा हो ऐसे कई प्रकार के लाभ हैं जो स्मार्ट सिटी बनने से देश की नागरिकों को मिलेगा ।

  • स्मार्ट सिटी बनने से बाहरी कंपनी यहाँ आकर अपनी कंपनी खोलेगी इससे यहां के बेरोजगारों को रोजगार मिलेगा ।
  • स्मार्ट सिटी बनने से आस पास के गाँव के बच्चे को पढ़ने के लिए ज्यादा भटकना नहीं पड़ेगा वो आसानी से अपनी शिक्षा पूर्ण कर सकेगा ।
  •  स्मार्ट सिटी मिशन से व्यापक , विकाश के साथ – साथ गरीब और बेचित समावेशी शहरों की ओर अग्रसर होंगे ।

भारत सरकार द्वारा जारी लिस्ट किस राज्य कितनी स्मार्ट सीटी होगी :

कमांक 
राज्य का नाम
 शहरों की संख्या
1 उत्तर प्रदेश 13
2 तमिलनाडु12
3महाराष्ट्र10
4 मध्यप्रदेश7
5 कर्नाटक6
6 गुजरात6
7राजस्थान4
8 पश्चिम बंगाल4
9 बिहार3
10आंध्र प्रदेश3
11पंजाब3
12तेलंगाना2
13हरियाणा2
14 छत्तीसगढ़1
15 उड़ीसा1
16 जम्मू व कश्मीर1
17 झारखंड1
18असम1
19 गोवा1
20 दिल्ली1
21 अरुणाचल प्रदेश1
22 हिमाचल प्रदेश1

और पढ़े :

Leave a Comment