स्टार्टअप इंडिया startup india 2022 : रजिस्ट्रेशन, लाभ, लोन व क्लेम प्रक्रिया

स्टार्टअप इंडिया क्या है ?

स्टार्टअप इंडिया योजना भारत सरकार की सबसे अनोखी एवं ऐतिहासिक योजना है | देश की गिरती अर्थव्यवस्था से चिंतित होकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने 2016 में इस योजना की शुरुआत की ताकि गिरती अर्थव्यवस्था को सहारा देने वित्तीय सहायता दिशा निर्देशन और साथ ही व्यापक भागीदारी तय करने के लिए पूरे देश में स्टार्टअप इंडिया योजना की शुरुआत की गई |

इससे ना केवल देश की अर्थव्यवस्था को विकास की नई पटरी पर लाया जाएगा बल्कि देश के युवाओं को स्वरोजगार के अवसर भी प्रदान होंगे | इससे बेरोजगारी की समस्या को भी काफी हद तक समाप्त किया जाएगा |

स्टार्टअप इंडिया योजना का उद्देश्य :

  • स्टार्टअप इंडिया योजना का मुख्य उद्देश्य व्यापार और एंटरप्रेन्योरशिप को बढ़ावा देना है |
  • इससे देश में रोजगार और नौकरियों को बढ़ावा मिलेगा साथ ही नए कारोबार को भी बढ़ावा मिलेगा |
  • इस योजना के तहत छोटे उद्यमी और कारोबारियों को आसान लोन (ऋण) की सुविधा मुहैया कराई जाएगी।
  • इस योजना के अंतर्गत नई रचनात्मक सोच वाले युवा वर्ग को जोड़ना है |
  • देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत, टिकाऊ एवं सतत विकास शील बनाना जिससे देश निरंतर आगे बढ़ सके |
  • इस योजना के तहत भारत में नवाचार को प्रेरित व प्रोत्साहित के साथ-साथ मजबूत स्टार्टअप के लिए स्थाई इकोसिस्टम का निर्माण करना है |
स्टार्टअप इंडिया

स्टार्टअप इंडिया के अंतर्गत लाभार्थी :

  • इस योजना के तहत नॉन कोऑपरेटिव, नॉन एग्रीकल्चरल एंड एमएसएमई (MSME) आदि को वित्तीय सहायता उपलब्ध कराई जाती है ताकि देश की अर्थव्यवस्था को विकसित करने वह देश की विकास दर को तेजी से बढ़ाने के लिए इसके योगदान को सुनिश्चित कराए जा सके |
  • अब नए स्टार्टअप नीति में महिलाओं को ही प्रमुखता से प्राथमिकता देने की बात कही गई है जिन्हें निम्नलिखित बिंदुओं से दर्शाया गया है |
  • इस योजना के तहत देश में सभी महिला स्टार्टअप को प्राथमिकता एवं मान्यता प्रदान की जाएगी |
  • देश की सभी महिला स्टार्टअप को कुल 22750 की वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी इस योजना के अंतर्गत |
  • इस योजना के अंतर्गत देश की महिलाओं को स्टार्ट अप निति के माध्यम से ₹5 लाख की पूंजीगत सहायता प्रदान की जाएगी |
  • इस योजना के तहत देश की सभी महिलाओं स्टार्टअप को ₹7. 50 लाख रुपए पूंजी के तौर पर दिया जाएगा |
  • साथ ही स्टार्टअप के दौरान अपने सभी खर्चों को पूरा करने के लिए हर इनक्यूबेशन सेंट की कुल 10 महिला स्टार्टअप को ₹15000 का मासिक निर्वाहन भत्ता उपलब्ध कराया जाएगा ताकि उन्हें कोई कष्ट ना हो |
  • इस योजना के तहत महिला, दिव्यांग तृतीय लिंग अर्थात थर्ड जेंडर को 50 फ़ीसदी एडिशनल फैसिलिटी प्रदान की |
  • ऐसा बताया गया है कि अब स्टार्टअप को 3 साल से 5 साल की अवधि के लिए आयकर विभाग से छूट दी जाएगी |
  • इस योजना के अंतर्गत स्टार्टप शुरू करने या अस्तित्व में लाने की अवधि 10 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए |

स्टार्टअप इंडिया के तहत वित्तीय वार्षिक कारोबार कितना होना चाहिए :

इस योजना के तहत किसी भी वित्तीय वर्ष के लिए 100 करोड रुपए से अधिक वार्षिक कारोबार नहीं होनी चाहिए |

स्टार्टअप इंडिया लोन क्या है ?

स्टार्टअप इंडिया के तहत सरकार ने बैंकों और एनबीएफसी के सहयोग से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने साल 2015 में मुद्रा योजना की शुरुआत की जो गैर कारपोरेट, गैर कृषि और एमएसएमई को उनके प्रारंभिक एवं विकास चरणों में स्टार्टअप इंडिया लोन प्रदान करती है |

स्टार्टअप इंडिया के तहत मिलने वाला लोन नई कंपनियों के साथ-साथ दूसरों को भी प्रदान किया जाता है |

स्टार्टअप इंडिया योजना के लिए रजिस्ट्रेशन करने की प्रक्रिया :

  • यदि आप इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं तो इसके लिए सबसे पहले आपको अधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा startupindia.gov.in
  • उसके बाद आपके सामने नया पेज खुलेगा |
  • अब आपको रजिस्टर पर क्लिक करना होगा |
  • अब आपको रजिस्टर करने के लिए मांगी गई सभी जरूरी जानकारियां भरनी होंगी |
  • इसमें अपना नाम ईमेल मोबाइल नंबर पता पासवर्ड डालें पासवर्ड आपको 2 बार डालना होगा एक बार कंफर्म करने के लिए |
  • अब आपको क्रिएट स्टार्टअप इंडिया अकाउंट पर क्लिक करना होगा |
  • इसके पश्चात आप का रजिस्ट्रेशन सफल हो जाएगा |
  • अब आप अपनी ईमेल आईडी का पासवर्ड डालकर लॉगइन कर सकते हैं |

स्टार्टअप इंडिया योजना के लिए योग्यता :

  • यदि आप इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं अपने बिजनेस या व्यापार को आगे बढ़ाना चाहते हैं तो आपको इस योजना की योग्यताओं की पूर्ति करनी होगी |
  • इस योजना में आवेदन करने के लिए आपके बिजनेस व्यापार या कंपनी की आयु 10 वर्ष से ज्यादा होनी चाहिए आपके व्यापार या कंपनी को तभी स्वीकार किया जाएगा |
  • जब आपकी कंपनियां व्यापार एक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी या फिर किसी रजिस्टर्ड फर्म के तौर पर नामांकित हो।
  • स्टार्टअप इंडिया योजना के तहत अनिवार्य है कि आपकी कंपनी या व्यापार की सालाना आमदनी (आय ) 100 करोड़ से अधिक नहीं होनी चाहिए एवं योजना के अंतर्गत आप की कंपनी एक स्केलेबल बिजनेस मॉडल होनी चाहिए तभी आप को इसका लाभ मिलेगा |

स्टार्टअप इंडिया रिपोर्ट कार्ड :

एक रिपोर्ट के अनुसार अभी तक 27 746 कंपनीज को स्टार्टअप के तहत मान्यता प्रदान कर दी गई है और 221 कंपनियां अभी कर का लाभ उठा रही हैं |

अभी तक कुल 264 कंपनियों को स्टार्ट अप भारत फंड के तहत SIDBI द्वारा फंड प्रदान कर दिया गया है |

इस योजना को और तेजी से विस्तार के लिए कृषि सामाजिक क्षेत्र स्वास्थ्य सेवा शिक्षा आदि क्षेत्रों की ओर भी ध्यान दिया जा रहा है |

स्टार्टअप इंडिया हेल्पलाइन नंबर टोल फ्री 1800115565 | आधिकारिक वेबसाइट  www.startupindia.gov.in

और पढ़े :

Leave a Comment