सुकन्या समृद्धि योजना 2022 | Sukanya samriddhi Yojana in Hindi

Contents

सुकन्या समृद्धि योजना 2022

केंद्र सरकार द्वारा बेटियों के भविष्य को उज्जवल एवं सुरक्षित बनाने के लिए सुकन्या समृद्धि योजना का शुभारंभ किया गया है। इस योजना के लाभ प्राप्त करने के लिए बेटी की 10 साल उम्र होने से पहले बेटी के नाम से बैंक अकाउंट खुलवाना पड़ता है |

इस योजना के तहत आप न्यूनतम ₹250 जमा करा सकते हैं तथा अधिकतम डेढ़ लाख रुपया आप निवेश कर सकते हैं। इन बचत योजनाओं पर इनकम टैक्स नहीं लगती है, तथा इस पर बैंक द्वारा उच्चतर ब्याज दर प्रदान किया जाता है।

जिससे कि लोग निवेश कर सके यह निवेश बेटी की उच्च शिक्षा या फिर शादी के लिए आप कर सकते हैं जिससे कि आने वाले वक्त में आपको अपनी बेटी को पढ़ाना या शादी में ज्यादा कठिनाई ना उठानी पड़े।

इस निवेश पर बैंक आपको 7.6 % की दर से‌ ब्याज प्रदान करेगी केंद्र सरकार की ओर से यह बहुत ही सुंदर योजना है। बेटियों के लिए इस योजना को केंद्र सरकार के द्वारा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ स्कीम के तहत लांच किया गया है।

इस योजना में यदि किसी कारणवश खाताधारक तय राशि जमा नहीं करा पाते हैं तो इस स्थिति में ₹50 सालाना की पेनल्टी देनी होगी।

सुकन्या समृद्धि योजना का उद्देश्य ?

इस योजना का मुख्य उद्देश्य बेटियों की भविष्य बेहतर करना तथा लड़कियों को उच्च शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़ाना और विवाह योग्य होने पर पैसे की कमी की समस्याओं को ना आने देना इसके तहत देश के गरीब लोग बचत खाते में अपनी बेटी की पढ़ाई लिखाई था शादी में होने वाले खर्च को आसानी से पूरा कर सकें।

सुकन्या समृद्धि योजना से लाभ :

इस योजना का लाभ अपनी बेटी की बेहतर भविष्य के लिए कर सकते हैं इसके तहत आप आसानी से अपनी बेटी का अकाउंट किसी भी पोस्ट ऑफिस या कमर्शियल ब्रांच की अधिकृत शाखा में खुलवा सकते हैं।

तथा इसके तहत आप अधिकतम ब्याज दर प्राप्त कर सकते हैं, और इस पर मिलने वाला ब्याज पर कोई भी टैक्स नहीं लगता एवं मेच्योरिटी अमाउंट या विड्रोल अमाउंट पर भी टैक्स बेनिफिट मिलता है |

इस योजना के तहत आप अपने दो बच्चों के लिए लाभ उठा सकते हैं हालांकि जुड़वा बच्चियां हो जाने पर आप तीसरी बच्ची के लिए भी सुकन्या समृद्धि योजना का लाभ उठा सकते हैं |

इस योजना की उम्र 10 वर्ष होने से पहले खुलवा सकते हैं और 14 वर्ष तक पैसे जमा करने होंगे उसके बाद बच्चे की उम्र 21 साल होने पर यह मैच्योर ( समय पूरा ) हो जाता है उसके बाद आप इसे आसानी से निकाल सकते हैं।

कहां और कैसे खुलेगा सुकन्या समृद्धि योजना का अकाउंट ?

किस योजना के तहत आप किसी भी पोस्ट ऑफिस या कमर्शियल ब्रांच की अधिकृत शाखा में खुलवा सकते हैं बच्चे की उम्र 10 साल से पहले।

सुकन्या समृद्धि योजना के लिए पात्रता एवं दस्तावेज ?

इस योजना के अंतर्गत अकाउंट खुलवाने के लिए बच्चे की आयु 10 साल से कम होनी चाहिए।

  • बच्ची का आधार कार्ड
  • बच्ची और माता पिता की तस्वीर
  • निवास प्रमाण पत्र
  • बालिका जन्म प्रमाण पत्र
  • जमा कर्ता ( माता-पिता या कानूनी अभिभावक) का पेन कार्ड , राशन कार्ड या फिर ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट कोई भी है।
  • इस सबके आवेदन पत्र जिसे भरकर जमा करना होता है।
  • चिकित्सा प्रमाण पत्र
  • अन्य दस्तावेजों बैंक की और डाकघर जहां आप अपनी बच्ची का खाता खुलवाना चाहते हैं उनके द्वारा मांगे गए महत्वपूर्ण दस्तावेज जमा करने होंगे।

सुकन्या समृद्धि योजना में बच्ची का अकाउंट खुलवाने के नियम :

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत खाता बेटी के माता-पिता या फिर बच्ची के कानूनी अभिभावक के द्वारा ही खुलवाया जा सकता है। Sukanya samriddhi yojna के अंतर्गत आप एक बेटी के लिए एक ही खाता खुलवा सकते हैं।

माता या पिता द्वारा एक बेटी के लिए दो खाता मान्य नहीं है इसीलिए एक ही खाता खोला जाएगा। इस योजना के तहत खाते को खाता धारक की 18 वर्ष की आयु होने तक खाता धारक के अभिभावक द्वारा संचालित किया जाएगा।

किस परिस्थितियों में आप सुकन्या समृद्धि योजना का खाता मेच्योरिटी से पहले बंद करवा सकते हैं ?

आप अपनी बच्ची की सुकन्या समृद्धि योजना के तहत खोले गए खाता विपरीत परिस्थितियों में ही बंद करा सकते हैं। यदि आपकी बच्ची अर्थात खाताधारक की किसी कारणवश मौत हो जाती है तो इस परिस्थिति में आप उस खाता को बंद करा सकते हैं।

इसके लिए आपको खाताधारक का मृत्यु प्रमाण पत्र बना कर दिखाना अनिवार्य होगा इसके बाद खाताधारक के अभिभावक को जमा धनराशि ब्याज सहित लौटा दिया जाता है। इसके अलावा भी आप समय पूर्ण से पहले बंद करवा सकते हैं |

इसके लिए कम से कम खाता खोलने के बाद 5 साल का समय बीत जाना चाहिए अर्थात खाता खोलने के 5 साल बाद ही आप किसी भी परिस्थिति में बंद करा सकते हैं | इस स्थिति में सेविंग बैंक अकाउंट के हिसाब से ब्याज दर दी जाएगी |

आप खाते में से आधी ( 50%) धनराशि बेटी की पढ़ाई के लिए भी निकाल सकते हैं। यह निकासी बेटी के 18 वर्ष के होने के बाद ही निकाली जा सकती है।

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत खाता खोलने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक आरबीआई द्वारा अधिकृत कुल 28 बैंक ही है जिसके अंदर सुकन्या समृद्धि योजना के खाते खोले जा सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत आने वाले अधिकृत बैंक :

  • भारतीय स्टेट बैंक
  • इलाहाबाद बैंक
  • आंध्रा बैंक
  • केनरा बैंक
  • देना बैंक
  • बैंक ऑफ इंडिया (BOI)
  • बैंक ऑफ बड़ौदा (BOB)
  • एक्सिस बैंक
  • बैंक ऑफ महाराष्ट्र( BOM)
  • सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया (CBI)
  • कॉर्पोरेशन बैंक
  • भारतीय बैंक
  • पंजाब नेशनल बैंक (PNB)
  • स्टेट बैंक ऑफ मैसूर (SBM)
  • आईडीबीआई बैंक
  • आईसीआईसीआई बैंक
  • इंडियन ओवरसीज बैंक (IOB)
  • स्टेट बैंक ऑफ पटियाला (SBP)
  • विजय बैंक
  • स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर
  • स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर (SBT)
  • ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स (OBC)
  • स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद (SBH)
  • यूनियन बैंक ऑफ इंडिया
  • पंजाब एंड सिंध बैंक (PSB)
  • यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया
  • यूको बैंक
  • सिंडिकेट बैंक
  • इस योजना के तहत मिलने वाला पासबुक पर खाता खोलने की तारीख, बच्ची का नाम, बच्ची की जन्म की तारीख, खाता संख्या पता एवं जमा की गई राशि पासबुक पर दर्ज होती है।

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत कितनी बेटियों को लाभ मिल सकता है ?

Sukanya Samriddhi Yojana 2022 के तहत केवल एक परिवार की दो बेटियों को ही इसका लाभ मिल सकता है। यदि एक परिवार में 2 से अधिक बेटी है तो उन्हें दो बच्ची के अलावा तिसरी को इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा लेकिन यदि किसी परिवार में जुड़वा बेटियां हैं तो उन्हें इस योजना का लाभ अलग-अलग मिलेगा यानी इस स्थिति में तिसरी बच्ची को इस योजना का लाभ मिलेगा।

जुड़वा बेटियों की गिनती एक ही होगी लेकिन उनको लाभ अलग-अलग दिया जाएगा।इस योजना के अंतर्गत देश के वे सभी नागरिक अपनी बेटी का खाता खोल सकते हैं जो अपनी बेटी की भविष्य उज्जवल बनाने के लिए पढ़ाई से लेकर शादी तक के लिए पैसा जमा करना चाहते हैं।

जैसा की आपको ऊपर बताया गया इस योजना के अंतर्गत 10 साल से कम की आयु की कन्याओं का खाता खोला जा सकता है। Sukanya Samriddhi Yojana को भारत सरकार द्वारा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना के अंतर्गत आरंभ किया गया है।

सुकन्या समृद्धि योजना का इंटरेस्ट रेट क्या है ?

जैसा कि आपको पता है Sukanya samriddhi Yojana को प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी जी के द्वारा बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ कैंपेन के अंतर्गत शुरू किया गया था। जिससे कि बेटी की भविष्य को उज्जवल करके सुरक्षित किया जा सके।

इस योजना के अंतर्गत जमा किए गए राशि को बेटी की पढ़ाई एवं भविष्य में बेटी की शादी के लिए उपयोग कर सकते हैं। सुकन्या समृद्धि अकाउंट योजना के तहत बच्ची के नाम से खाता आप पोस्ट ऑफिस एवं बैंक में खोल सकते हैं।

इनकम टैक्स एक्ट 1961 के सेक्शन 80c के अंतर्गत इस योजना के अंतर्गत 1.5 लाख तक का कर लाभ प्रदान किया जाता है।
इस योजना के लिए सरकार द्वारा पहले इंटरेस्ट रेट 8.4% निर्धारित किया गया था जिसे अब घटाकर 7.6% कर दिया गया है।

इस योजना का लाभ इसकी अवधि पूरी होने के पश्चात या फिर कन्या यदि एन आर आई या नोन सिटिजन बन जाती है तो इस स्थिति में कोई भी ब्याज प्रदान नहीं किया जाएगा। इस योजना के लिए तिमाही आधार पर सरकार द्वारा ब्याज दर निर्धारित की जाती है।

सुकन्या समृद्धि योजना का अकाउंट ट्रांसफर कैसे करें ?

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत खुलवाएं गए खाते को आप अपने सुविधा अनुसार एक पोस्ट ऑफिस से दूसरे पोस्ट ऑफिस में या फिर एक बैंक से दूसरे बैंक में अकाउंट को ट्रांसफर भी कर सकते हैं। अकाउंट ट्रांसफर करने के लिए कुछ नियम प्रक्रिया है जिसे आपको फॉलो करना होगा:-

  • इसके लिए सर्वप्रथम आपको अपनी अपडेटेड पोस्ट ऑफिस या बैंक पासबुक और केवाईसी दस्तावेजों को लेकर डाकघर में या फिर बैंक में जाना होगा जहां अपने खाता खुलवाया है। ट्रांसफर के दौरान बालिकाओं को उपस्थित होने की आवश्यकता नहीं है।
  • उसके बाद आपको अपने सुकन्या समृद्धि अकाउंट की पासबुक एवं केवाईसी डॉक्यूमेंट समेत अपने पोस्ट ऑफिस या बैंक में जहां खाता है वहां जमा करना होगा। अपने पोस्ट ऑफिस या बैंक को इस बात की सूचना देने होगी कि आप अपनी बच्ची का सुकन्या समृद्धि अकाउंट ट्रांसफर कराना चाहते हैं।
  • उसके बाद मैनेजर आपका खाता पुरानी पोस्ट ऑफिस या फिर बैंक में जहां आपकी खाता है वो बंद कर देगा और ट्रांसफर रिक्वेस्ट आपको दे देगा। इसके अलावा आपसे सभी जरूरी दस्तावेजों की मांग की जाएगी।
  • उसके बाद आपको यह ट्रांसफर रिक्वेस्ट लेकर नए पोस्ट ऑफिस या फिर बैंक में जाना होगा जहां आप नया अकाउंट रखना चाहते हैं वहां पर यह सभी दस्तावेज सबमिट करने होंगे।
  • पहचान एवं पते के प्रमाण के लिए आपको केवाईसी दस्तावेजों को भी जमा करना होगा।
  • इन सारी प्रोसेस के बाद अब आपको पोस्ट ऑफिस या बैंक द्वारा जहां आप नई खाता खुलवाना चाहते हैं वहां एक नई पासबुक दी जाएगी जिसमें आपकी शेष राशि प्रदर्शित होगी।
  • इन सबके बाद आप अपने इस नया अकाउंट से सुकन्या समृद्धि योजना अकाउंट का संचालन कर सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना के लिए प्रतिवर्ष कितने पैसे देने होंगे तथा कब तक देना होगा ?

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत पहले इसके लिए प्रति माह ₹1000 देने का प्रावधान था। लेकिन अब इसे कम करके ₹250 प्रतिमाह कर दिया गया है। इस योजना के अंतर्गत ₹250 से लेकर ₹1.5 लाख तक निवेश किए जा सकते हैं। इस योजना के अंतर्गत बच्ची के बैंक अकाउंट खुलवाने के 14 साल तक निवेश करना अनिवार्य होगा।

सुकन्या समृद्धि योजना खाता रिओपन करने की पूरी प्रक्रिया क्या है ?

सुकन्या समृद्धि योजना को भारत सरकार के द्वारा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के अंतर्गत शुरू किया गया है। इस योजना के तहत यदि निर्धारित न्यूनतम राशि जमा नहीं करते हैं तो इस स्थिति में आपका अकाउंट बंद हो जाएगा। अकाउंट बंद होने के बाद अकाउंट को दोबारा एक्टिवेट करवाया जा सकता है इसके लिए निम्नलिखित प्रोसेस है :-

  • यदि आपकी बच्ची का सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत खुलवाया गया अकाउंट बंद हो गया है तो इसके लिए सबसे पहले आपको संबंधित बैंक या फिर पोस्ट ऑफिस जहां भी उस बच्ची का अकाउंट खुला हुआ है वहां जाना होगा। इसके पश्चात आपको को खाता दोबारा चालू करवाने का फॉर्म भरकर बैंक में जमा करना होगा और बकाया राशि का भुगतान करना होगा।
  • मान लीजिए यदि आपने 2 वर्ष से ₹250 की पेमेंट नहीं की है तो आपको ₹500 की पेमेंट करनी पड़ेगी तथा प्रति वर्ष ₹50 की पेनल्टी भी आपको भुगतान करना होगा। 2 वर्ष की कुल पेनल्टी ₹100 हो जाएगी। तो यदि आप ने 2 वर्ष से सुकन्या समृद्धि योजना अकाउंट में न्यूनतम राशि का भुगतान नहीं किया है तो अब आपको दोबारा एक्टिवेट करने के लिए कम से कम ₹600 का भुगतान करना होगा। इसमें ₹500 दो वर्ष की न्यूनतम राशि तथा ₹100 दो वर्ष की पेनल्टी के होंगे उसके बाद ही आपका सुकन्या समृद्धि योजना के तहत बंद अकाउंट दोबारा एक्टिवेट हो पाएगा।

डिफॉल्ट अकाउंट पर अधिकतम ब्याज दर कितना मिलेगा ?

Sukanya Samridhi Yojana के अंतर्गत खोले गए अकाउंट में यदि कोई व्यक्ति इसकी न्यूनतम धनराशि 250 रूपये की धनराशि एक वर्ष में जमा नहीं करता है तो उसे बैंक द्वारा डिफॉल्ट अकाउंट माना जाता है।

सरकार द्वारा 12 दिसंबर, 2019 को नई अधिसूचित के मुताबिक, अब ऐसे डिफॉल्ट अकाउंट में जमा रकम पर वही इंट्रेस्ट रेट दिया जायेगा जो इस योजना के तहत तय किया गया है । इसके साथ ही सुकन्या समृद्धि योजना खाते पर 8.7% तो पोस्ट ऑफिस बचत खाते पर 4% की ब्याज दर मिलेगी।

और पढ़े :

Leave a Comment