UP Agriculture 2022 | Kisan Registration Online

Contents

यूपी एग्रीकल्चर किसान रजिस्ट्रेशन क्या हैं

उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा राज्य के किसानों के लिए कई योजना को शुरू करती हैं इसलिए इन योजनाओं का लाभ किसानों तक पहुंचाने के लिए UP Agriculture Portal को शुरू किया गया है |

उत्तर प्रदेश के किसान इस पोर्टल के जरिए जो योजना शुरू की जा रही है या चल रही है आप मोबाइल लैपटॉप के माध्यम से उसकी जानकारी ले सकते हैं |

आप उत्तर प्रदेश के कृषि विभाग के ऑफिशियल वेबसाइट up agriculturecom पर जाकर kisan registration कर सकते हैं | इससे किसानों का सारा डाटा सरकार के पास पहुंचेगा |

सरकार के पास डाटा पहुंचने से किसानों को उनके मापदंड के अनुसार योजना का लाभ दिया जाएगा | इस आर्टिकल के द्वारा हम आपको बताएंगे कि क्या है यूपी एग्रीकल्चर किसान रजिस्ट्रेशन, क्या है उद्देश, दस्तावेज, पंजीकरण की प्रक्रिया आदि के बारे में बताएंगे इसलिए आप इस लेख को पूरा पढ़ें |

UP Agriculture Kisan Registration 2022

योजना का नामयूपी एग्रीकल्चर किसान रजिस्ट्रेशन
शुरू की गईउत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा
आवेदन का मोडऑनलाइन/ ऑफलाइन
उद्देश्यराज्य के किसानों को सरकारी योजनाओं का लाभ देना
अधिकारिक वेबसाइटupagriculture.com
up agriculture ministryकृषि एवं किसान कल्याण विभाग

यूपी एग्रीकल्चर किसान रजिस्ट्रेशन का उद्देश्य क्या है

उत्तर प्रदेश के किसान खुद को किसान डीबीटी एग्रीकल्चर के माध्यम से रजिस्ट्रेशन करके सरकार के अन्य कई योजना का लाभ ले सकते हैं और यही UP Agriculture Kisan Registration का उद्देश्य है |

इसमें आप किसान क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन का प्रोसेस लाभ, क्या लाभ दिया गया, किसान कल्याण मिशन की जानकारी लिया जा सकता है | सरकार द्वारा इस पोर्टल को शुरू करने से किसानों को बहुत राहत मिली हैं |

इससे उन्हें सरकारी कार्यालय में अब नहीं जाना पड़ेगा और इससे उनका कीमती समय तथा पैसा बचेगा | किसान इस पोर्टल की मदद से घर बैठे ईंटरनेट की सहायता से कृषि से जुड़ी जानकारी ले सकता है |

यूपी एग्रीकल्चर किसान रजिस्ट्रेशन पोर्टल के कौन से लाभ हें

यूपी सरकार के व्दारा राज्य के किसानों के हित में UP Agriculture किसान रजिस्ट्रेशन पोर्टल को शुरू किया गया है | इस पोर्टल के द्वारा किसानों को जो लाभ दिया जाएगा, उसकी जानकारी नीचे दी गई है |

  • जो सरकारी योजना उत्तर प्रदेश सरकार ने खुद शुरू की है उसका लाभ किसान UP Agriculture Portal के द्वारा स्वयं को पंजीकरण करके लाभ सकते हैं |
  • किसान जब इस पोर्टल पर पंजीकृत करेंगे तो इससे उनका सारा डाटा इस पोर्टल पर आ जाएगा जिससे किसानों तक योजनाओं को पहुंचाने में आसानी होगी |
  • इस पोर्टल के लांच होने से नागरिक को सरकारी कार्यालय में जाना नहीं होगा जिससे उनका कीमती समय बचेगा |
  • डीबीटी के जरिए जो पंजीकृत किसानों को राशि दी जाती है वह सीधे उनके बैंक खाते में आएगी |
  • इस पोर्टल के शुरू होने से किसान घर बैठे ही मोबाइल लैपटॉप के जरिये योजनाओं की जानकारी ले सकेंगे |
  • अगर आपको इस योजना में किसी तरह की परेशानी आ रही है या फिर इसका लाभ नहीं मिल रहा है तो आप इस पोर्टल पर ही शिकायत कर सकते हैं |

यूपी एग्रीकल्चर पोर्टल पर आवेदन करने के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज क्या है

UP Agriculture पोर्टल पर आवेदन करने से पहले इसका डाक्यूमेंट्स को जानना जरूरी है |
जो इस तरह से हैं

  • आवेदक का आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • बैंक का पासबक
  • पहचान पत्र
  • कृषि भूमि के डाक्यूमेंट्स
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • खसरा खतौनी का नकल

यूपी एग्रीकल्चर पोर्टल पर कौन सी सेवाएँ दी जाती हैं

UP Agriculture पोर्टल पर मिलने वाली सुविधा नीचे दी गई है |

  • किसान पंजीकरण की सुविधा
  • लाभार्थियों का लिस्ट
  • किसान की मदद
  • सूखा राहत का प्रगति
  • अन्य सूचना
  • पंजीकरण का रिपोर्ट
  • अनुदान खाते में भेजने की प्रगति जाने
  • अपना पंजीकरण संख्या जाने
  • किसी प्रकार का सुझाव शिकायत
  • कहाँ पर किसको क्या लाभ
  • किसान हेतु सुविधा एवं अनुदान
  • योजनाओं में लाभ वितरण
  • किसान क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन
  • यंत्र पर अनुदान हेतु टोकन निकालना
  • प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना
  • पंजीकरण का ग्राफ
  • सफलता का कहानी
  • विकास अजेंडा का प्रगति

यूपी एग्रीकल्चर किसान रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया क्या है

आप अगर ऑनलाइन माध्यम से UP Agriculture Kisan Registration का आवेदन करना चाहते हैं तो नीचे कुछ सरल स्टेप्स बताए गए हैं उसका पालन करें

  • व्यक्ति को आवेदन करने के लिए सर्वप्रथम कृषि विभाग की आफिशियल वेबसाइट पर आना
    होगा |
  • up agriculturecom
  • स्क्रीन पर आपके वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा |
  • होम पेज पर आप पंजीकरण का विकल्प देखते हैं उस पर क्लिक करना है |
  • सामने स्क्रीन पर आपके न्यू पेज खुल जाएगा, यहाँ पर आपको तीन विभाग का योजना में पंजीकरण करने का ऑप्शन
    दिखेगा |
  • आप दिए गए ऑप्शन मै से जिस भी योजना में आप आवेदन करने को चाहते हैं उसे चुने फिर क्लिक करना होगा |
  • इसके बाद सामने आपके योजना का आवेदन फॉर्म ओपन हो जाएगा उस आवेदन फॉर्म में जो भी जानकारी मांगी जा रही उसको सही से और अच्छे तरीके से भरें |
  • भरने के बाद जो इसमें डाक्यूमेंट्स मांगे जा रहे हैं, उसे साथ में अपलाड कर दें |
  • इसके बाद आपनी फॉर्म की जांच कर लें, उसके बाद सबमिट कर दें |
  • ऊपर दिए गए प्रक्रिया को फॉलो करके आप इसमें पंजीकरण कर सकते हैं |

यूपी एग्रीकल्चर किसान रजिस्ट्रेशन में ऑफलाइन अवेदन की प्रक्रिया

जो भी व्यक्ति UP Agriculture Kisan Registration में ऑफलाइन पंजीकरण करना चाहते हैं उसके लिए आपको अपने नजदीक के कृषि विभाग कार्यालय में जाना होगा |

वहां पर उस योजना का आवेदन फॉर्म को लेकर जो भी जानकारी पूछी गई है उसे सही से भरें भरने के बाद फॉर्म को जांचे उसके बाद जो डाक्यूमेंट्स मांगे जा रहे हैं उनको फार्म के साथ में अटैच कर फॉर्म को कार्यालय के अधिकारी को दे देना है |

UP Agriculture 2022 (FAQ)

Q : यूपी एग्रीकल्चर किसान रजिस्ट्रेशन का अधिकारिक वेबसाइट क्या है ?

Ans : UP Agriculture Kisan Registration का अधिकारिक वेबसाइट नीचे दिया गया है |
upagriculture.com

Q : यूपी एग्रीकल्चर पोर्टल पर यूपी के अलावा कौन से राज्य के किसान पंजीकरण कर सकते हैं ?

Ans : UP Agriculture Portal पर सिर्फ उत्तर प्रदेश के किसान ही पंजीकरण कर सकते हैं अन्य राज्य के किसान इसमें पंजीकरण नहीं कर सकते |

Q : यूपी एग्रीकल्चर पोर्टल का हेल्पलाइन नंबर क्या है ?

Ans : अगर आप यूपी एग्रीकल्चर पोर्टल पर किसी प्रकार की शिकायत करना चाहते हैं या फिर सुझाव देना चाहते हैं तो उसके लिए सरकार ने हेल्पलाइन नंबर को जारी किया गया हैं |
Helpline Number – 7235090578

Q : जो किसान पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन किए हुए हैं वह अपना नाम लाभार्थी लिस्ट में कैसे देख सकते हैं ?

Ans : जो भी किसान इस पोर्टल पर पंजीकरण किए हैं वह लाभार्थी की सूची के ऑप्शन पर क्लिक करें जो जानकारी मांगी जा रही हैं उसे भरकर देखा जा सकता है |

Q : Ministry of Agriculture Uttar Pradesh ?

Ans : MINISTRY OF AGRICULTURE & FARMERS WELFARE
कृषि एवं किसान कल्याण विभाग

Leave a Comment